खोये थे तन्हाई में,रोये थे सारी रात ..

खोये थे तन्हाई में,रोये थे सारी रात
पलकों से बहते हमारे आंसू हमसे पूछ बैठे
हमें रोज़रोज़ क्यों बुलाते हो;
हमने कहा हम याद तो अपने मेहबूब को करते हैं;
तुम क्यों चले आते हो।

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *