मिले शुकून की जिंदगी बेटे को इसलिए बाप कई रातों को नहीं सोता.

चलता है पथरीले धधकते अंगारों पर कष्ट हो कितने हौसला नहीं खोता ,

मिले शुकून की जिंदगी बेटे को इसलिए बाप कई रातों को नहीं सोता

Chalta hai patrile dhadhkte angaron par kast ho kitne hausla nahi khota

mile shukun ki jingadi bete ko isliye baap kai raton ko nahi sota

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *